*भरण-पोषण का नहीं मिला पैसा, प्रधान संघ आंदोलन की राह पर*

*भुगतान न होने की वजह गौशाला संचालन करना हो रहा मुश्किल*

 

*परिषदीय स्कूलों के विद्युत बिल का भुगतान नहीं करेंगे ग्राम प्रधान*

 

उत्तर प्रदेश(दैनिक कर्मभूमि) चित्रकूट।गौशाला संचालन के लिए मिलने वाली भरण-पोषण का भुगतान न होने से प्रधानों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। जिससे अब प्रधान आंदोलन की राह पर आ गए है। सोमवार को मानिकपुर ब्लाक परिसर में प्रधान संघ की बैठक में तय हुआ कि परिषदीय स्कूलों का कायाकल्प प्रधान कराएंगे, लेकिन बिजली बिल का भुगतान ग्राम निधि से नहीं करेंगे। इसके बाद संघ की ओर से बीडीओ को ज्ञापन सौंपा गया।

बीडीओ को ज्ञापन सौंपकर प्रधान संघ ने लिए गए निर्णय से अवगत कराया। कहा कि ग्राम पंचायतों में गौशाला संचालन के दौरान काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। पिछले वित्तीय वर्ष के माह मार्च के भरण पोषण की धनराशि अभी तक पंचायतों को नहीं मिली है। इस वर्ष पिछले माह अगस्त से अक्टूबर तक पैसा नहीं दिया गया है। कहा कि मनरेगा में अब छह दिवस के मास्टर रोल निर्गत करवाने के निर्देश दिए जाएं। गौशाला संचालन के लिए हर महीने समय से भरण-पोषण का पैसा दिया जाए। इसी तरह कायाकल्प के कार्य मनरेगा से कराए जाने, टीएस का समय निर्धारण, मनरेगा मजदूरी का समय से भुगतान किया जाए। बताया कि ग्राम पंचायतों के विद्यालय में मनरेगा से कायाकल्प कराया जाएगा। लेकिन विद्यालय में उपभोग की गई बिजली का बिल शिक्षा विभाग अपने मद से अदा करे। कहा कि अगर उनकी सभी मांगे इसी महीने निस्तारित नहीं की गई तो माह दिसंबर से समस्त ग्राम प्रधान संपूर्ण मनरेगा व गौशाला का संचालन कार्य पूर्ण रूप से बंद करेंगे। इस दौरान प्रधान संघ जिलाध्यक्ष सुनील शुक्ला, ब्लाक अध्यक्ष गुड्डा पटेल, महामंत्री विक्रम सिंह बघेल, आनंद सिंह, विपिन मिश्र, राजकुमार, इंद्रजीत, नत्थू, राममिलन, रामनाथ, अरुण कुमार, शिवऔतार आदि प्रधान मौजूद रहे।

 

 

*ब्यूरो रिपोर्ट* अश्विनी कुमार श्रीवास्तव

*जनपद* चित्रकूट

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: