द्वाराचार के दौरान हर्ष फायरिंग में दो की मौत व दो घायल

उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय(दैनिक कर्मभूमि)राजापुर, चित्रकूट। द्वारचार के दौरान बरातियों द्वारा की गई हर्ष फायरिंग में दो लोगों की मौत हो गई जबकि दो अन्य घायल हो गए। घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस टीम ने घायलों को सीएसची रामनगर में भर्ती कराया। हर्ष फायरिंग में मरने वाले दो लोग दूल्हे के दादा और बहनोई बताए जा रहे हैं। पुलिस ने शवों का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। घटना के बाद से गांव में हड़कंप मच गया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार रैपुरा थाना क्षेत्र के महुलिया निवासी हरिश्चन्द्र यादव के बेटे शंकर की शादी नोनागर निवासी ढइया यादव की पुत्री बुधिया के साथ तय हुई थी। बीते मंगलवार की शाम को महुलिया से नोनागर बारात पहुंची थी। रात लगभग 11 बजे द्वारचार की रस्म के दौरान दो लाइसेंसी राइफल धारकों ने हर्ष फायरिंग शुरु कर दी। इस दौरान दूल्हे के दादा रामलखन (50) निवासी महुलिया, बहनोई रामकरन यादव (28) निवासी उड़की रैपुरा को गोली लग गई। जबकि महुलिया निवासी रामफल व रामलाल गोली के छर्रे लगने से घायल हो गए। हर्ष फायरिंग में दूल्हे के बहनोई की मौके पर ही मौत हो गई। घटना की सूचना पाकर एसपी अतुल शर्मा, अपर एसपी शैलेन्द्र कुमार राय, प्रभारी निरीक्षक थाना राजापुर अवधेश कुमार मिश्रा भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचकर दूल्हे के दादा व दो अन्य घायलों को सीएचसी रामनगर पहुंचाया। प्राथमिक इलाज के बाद गंभीर हालत के चलते दूल्हे के दादा को जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। जहां डाक्टरों ने देखने के बाद उन्हें मृत घोषित कर दिया। जबकि दो अन्य लोगां को मामूली तौर पर घायल होने की वजह से इलाज के बाद घर भेज दिया गया।

घटना के बाद नहीं हुई शादी

हर्ष फायरिंग में दो लोगों की मौत व दो अन्य के घायल होने पर मौके पर अफरा-तफरी मच गई। दोनों पक्ष के रिश्तेदार घटना के तुरंत बाद ही अपने-अपने गांव निकल गए। दूल्हा समेत उसके परिजन व बाराती खुद ही भाग आए। जिसके फलस्वरूप शादी नहीं हो सकी। मौत के बाद अफरा-तफरी के बीच चीख-पुकार मची रही।

पुलिस के हत्थे चढ़ा दोनाली लाइसेंस धारक

द्वार चार के दौरान हर्ष फायरिंग करने वाले एक दोनाली लाइसेंसी राइफल धारक को पुलिस ने दबोच लिया है। जबकि दूसरा अभी फरार बताया जा रहा है। पुलिस उसकी तलाश में जुटी है। बताते हैं कि दोनों ही लाइसेंसी राइफल धारक बारात पक्ष से आए थे। इनमें एक दूल्हे का फूफा बताया जा रहा है। जबकि दूसरा गांव का ही सजातीय है।

 

*ब्यूरो रिपोर्ट* अश्विनी कुमार श्रीवास्तव

*जनपद* चित्रकूट

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: