आदिवासियों का घर उजाड़ने के लिए ग्राम प्रधान पति रच रहा साजिश

उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय हिंदी (दैनिक कर्मभूमि)चित्रकूट। जिला के भरतकूप क्रेशर नगरी में इन दिनों लगातार एक्सप्रेसवे की रोड को लेकर विवाद बढ़ता दिखाई दे रहा है। एक ओर जहां आदिवासी समाज के द्वारा अपना आशियाना बचाने के लिए जिला अधिकारी का दरवाजा खटखटा जा रहा हैं। तो वहीं दूसरी तरफ अकबरपुर ग्राम प्रधान पति के द्वारा षड्यंत्रकारी पत्र लिखकर जिले के उच्च अधिकारियों को गुमराह करने की कोशिश की जा रही है बताया जा रहा है कि बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे को जोड़ने वाले रामगमन पथ के निर्माण कार्य को लेकर जहां लोगों में काफी खुशी थी वही अब राम गमन पथ ग्रामीणों के लिए मुसीबत बनता जा रहा है कुछ दिन पहले ग्रामीणों के द्वारा चित्रकूट जिला अधिकारी के समक्ष उपस्थित होकर अपना आशियाना बचाने की गुहार लगाई गई थी तो वहीं अब लेखपाल व ग्राम प्रधान पति अकबरपुर का एक नया कारनामा सामने आया है। आदिवासियों ने बताया कि क्रेशर मालिकों के एवं व्यवसाईयों के बल पर ग्राम प्रधान पति के द्वारा धौस दिखाया जा रहा है वही जहां एक ओर राम गमन पथ के नक्शे पर बदलाव करने की पूर्ण कोशिश की जा रही हैं तो वहीं अब दूसरे तरफ आदिवासी समाज के निवासी लोगों के आशियाने को उजाड़ने के लिए अब ग्राम प्रधान पति के द्वारा एक नया कारनामा किया गया है आदिवासियों के द्वारा बताया गया कि ग्राम प्रधान पति के द्वारा षड्यंत्रकारी एक पत्र जिले के उच्च अधिकारियों को भेजे गए हैं जिसमें ग्राम प्रधान पति के द्वारा स्वयं पत्र में हस्ताक्षर कर आदिवासियों की सहमति बनाकर संबंधित पत्र को जिले के उच्च अधिकारियों के पास भेजा गया है जबकि आदिवासियों का कहना है कि उनके द्वारा आज दिनांक तक ऐसे किसी भी पत्र में हस्ताक्षर नहीं किए गए हैं। जिलाधिकारी से आदिवासियों के द्वारा गुहार लगाने के बाद भी ग्राम प्रधान पति द्वारा डरा धमाकर आदिवासियों के घर तोड़ने की बात कही जा रही हैं। आदिवासियों को लगातार डराया धमकाया जा रहा है वहीं अब देखने वाली बात यह होगी कि जिले के उच्च अधिकारी आदिवासियों की समस्या पर कितना अमल करते हैं। वही जब आदिवासियों की बात को लेकर ग्राम अकबरपुर के लेखपाल से बात की गई तो बताया गया कुछ आदिवासियों द्वारा सहमति मिली थी उसी लेकर तहसीलदार व नायब तहसीलदार के साथ मैं गया था। जिन आदिवासियों की सहमति पत्र में उसी की तस्तीत करने आए थे वही लेखपाल ने बताया कि आदिवासियों को बने बनाए मकान रहने के लिए दिए जाएंगे इसी को लेकर तहसीलदार,नायब तहसीलदार गए थे। वही आदिवासियों का कहना है हम लोगो ने कही किसी भी सहमति पत्र में कोई साइन व अगूंठा नही लगाए हैं हम लोगो के साथ धोखाधडी की जा रही हैं ।

ब्यूरो रिपोर्ट अश्विनी श्रीवास्तव

 

error: Content is protected !!