22 जनवरी से 22 स्थानों पर दीपोत्सव पूजन और संकीर्तन का जारी है दौर

उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय हिंदी (दैनिक कर्मभूमि)चित्रकूट। अयोध्या में रामलला की स्थापना को लेकर धर्मनगरी के 22 मंदिरों में दीपोत्सव के तहत पम्पापुर, कोटितीर्थ और देवांगना में दीपों की जगमगाहट की गई और रामनाम संकीर्तन किया गया। तीनों स्थानों पर रामभक्त बजरंगबली की स्तुति की गई और जय बजरंगी जय श्री राम के जयकारे लगाए गए।

बुंदेली सेना के जिलाध्यक्ष अजीत सिंह और मत्तगजेंद्रनाथ मंदिर ट्रस्ट के कार्यकारी अध्यक्ष प्रदीपदास महराज ने बताया कि तीर्थक्षेत्र के 22 मंदिरों में 22 जनवरी तक दीपोत्सव, पूजन और संकीर्तन का कार्यक्रम जारी है। पम्पापुर में तपसाली महराज ने दीपोत्सव में सहभागिता की और कार्यक्रम को सराहनीय बताया। उन्होंने कहा कि सभी के जीवन में दुर्लभ संयोग आने वाला है। 22 जनवरी को घर और मठ मंदिरों में दीपावली मनाना चाहिए। रामायण, संकीर्तन और पूजा पाठ का क्रम उसदिन चलना चाहिए। जब 550 वर्षो बाद प्रभु श्री राम अपने मंदिर में विराजमान हो रहे हैं। पम्पापुर के साथ ही देवांगना और कोटितीर्थ में दीपोत्सव का कार्यक्रम हुआ और भजन, पूजन संकीर्तन के दौर चले।

इस मौके पर आचार्य प्रदीप द्विवेदी, पुष्पराज त्रिपाठी, जगरूप पाठक, पुष्पराज विश्वकर्मा, कर्वी माफी प्रधान बद्री सिंह पटेल आदि मौजूद रहे।

ब्यूरो रिपोर्ट अश्विनी श्रीवास्तव

 

error: Content is protected !!