ग्राम प्रधान ने जिलाधिकारी व सदर एसडीएम से चारागाह की जमीन को कब्जा मुक्त करने की लगाई गुहार

उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय हिंदी (दैनिक कर्मभूमि)चित्रकूट। जिले के सदर तहसील कर्वी के अंतर्गत भरतकूप क्षेत्र के ग्राम पंचायत गोंडा में हाईवे के किनारे स्थित चारागाह की जमीन को बंजर भूमि दिखाकर राजस्व विभाग ने अवैध तरीके से पट्टे किए गए। वहीं इन पट्टाधार्को द्वारा पट्टे की जमीन को बेच दिया गया। जिसमें भूमाफियाओं द्वारा क्रेशर संचालित की गई थी सबसे ज्यादा हैरान करने वाली बात यह है कि राजस्व कर्मी ने भू माफियाओं से साठ गांठ कर चारागाह की जमीन को बिना किसी सक्षम अधिकारी के आदेश से बंजर भूमि में दर्ज कर दिया गया था जिसमें मनमानी तरीके से पट्टे किए गए थे। इन पट्टाधार्को ने बिना किसी परमिशन के जमीन बेचने का काम किया था जिसमें शासन की नियमावली के विरुद्ध क्रेशर प्लांट संचालित किए गए थे। आपको बतादें कि मंगलवार को ग्राम पंचायत गोंडा के ग्राम प्रधान राममिलन श्रीवास ने बताया कि बीते दिनों उन्होंने उप जिला अधिकारी को दिए गए शिकायती पत्र में बताया था की चरागाह की भूमि को कूट रचित तरीके से बंजर की भूमि दिखाई गई थी व इस जमीन पर मनमानी तरीके से पट्टे दिए गए थे वहीं पट्टा धारकों द्वारा यह बेसकीमती जमीन भूमाफियाओं को बेच दी गई थी उन्होंने बताया कि ग्राम पंचायत गोंडा में आराजी नंबर गाटा संख्या 234(3.420 हे.)

लगभग 20 बीघा वही गाटा संख्या 32 (1.570 हे.) लगभग 9 बीघा है आराजी संख्या 234 रकवा 8.45 एकड़ च. आ. प.45 में चारागाह के नाम पर खाता संख्या 781 में दर्ज है किंतु खतौनी में भूमाफियाओं ने राजस्व कर्मी से साठ गांठ कर कूट रचना से चारागाह की भूमि को बिना किसी सक्षम अधिकारी के आदेश से बंजर खाते में दर्ज कर कई लोगों के नाम पर पट्टे कर दिए गए थे। इसके बाद पट्टा धारकों से बिना परमिशन के भूमि क्रय कर उक्त गाटे में अनियमित रूप से विधि विरुद्ध क्रेशर संचालित किए गए थे ।

ग्राम प्रधान ने बताया कि उक्त गाटा राष्ट्रीय राजमार्ग एन एच 35 से लगा हुआ है जो अत्यंत उपयोगी और बेस कीमती चारागाह की भूमि है ग्राम प्रधान ने जिला प्रशासन से उक्त गाठे की गहन जांच करते हुए विधि विरुद्ध संबंधित खातेदारो में दर्ज नाम निरस्त करते हुए उक्त भूमि को पुनः चारागाह खाते में दर्ज करने की मांग की है उक्त गाथा संख्या 234 पर जवाहर पुत्र रामकुमार, सरला देवी पत्नी सुनील कुमार, निवासी अकबरपुर, गायत्री देवी पत्नी दिनेश कुमार निवासी अकबरपुर, राजा पुत्र रामकुमार,रामसिंह पुत्र वंश धारी, रामभद्रपुत्र गया प्रसाद, केशव प्रसाद पुत्र नर्मदा प्रसाद निवासी भोरी, सत्य प्रकाश पुत्र रामभद्र निवासी रोली कल्याणपुर, अरविंद कुमार पुत्र अवधेश निवासी भोरी, सविता पत्नी शोभा सिंह निवासी पिपहरी नरैनी बांदा, सहित अन्य कई लोगों द्वारा पट्टाधारकों से जमीन क्रय की गई वह इसी जमीन पर शासन की नियमावली के विरुद्ध क्रेशर संचालित की गई ग्राम प्रधान गोंडा ने जिला अधिकारी एवं उप जिला अधिकारी से चारागाह की जमीन को बंजर खाते से हटाकर पुनः चारागाह की जमीन में परिवर्तित कर अवैध कब्जे से मुक्त कराने की मांग की है इसके अलावा चारागाह की जमीन को बंजर दिखाकर करोड़ों का खेल करने वाले राजस्व कर्मी के विरुद्ध कठोर कार्रवाई करने का भी प्रधान ने मांग किया उक्त मामले में सदर एसडीएम सौरभ यादव का कहना है कि मामले ग्राम प्रधान द्वारा संज्ञान में लाया गया है टीम गठित कर जल्द ही प्रकरण की जांच कर विधिक कार्यवाही की जाएगी।

ब्यूरो रिपोर्ट अश्विनी श्रीवास्तव

 

error: Content is protected !!