भारत का वैश्विक स्तर पर अमूल्य प्रतीक है राम मंदिर : प्रशांत सिंह

दैनिक कर्म भूमि।कानपुर।अयोध्याधाम स्थित जन्मभूमि में रामलला का भव्य और दिव्य मंदिर का सपना केवल हमने नहीं हमारे पूर्वजों ने भी देखा था। यह हम लोगों के लिए सौभाग्य की बात है कि लंबे संघर्ष के बाद 22 जनवरी को यह सपना साकार हो चुका है। अयोध्याधाम में राममंदिर निर्माण के लिए कई रामभक्तों ने रामकाज के लिए अपना बलिदान दिया है। अब एक ही आकांक्षा है कि अयोध्याधाम में विराजित अपने प्रभु श्रीराम के दर्शन कर अपना जीवन धन्य कर सकें।यह कहना है भारतीय नमो संघ के राष्ट्रीय महामंत्री प्रशांत सिंह ने की अयोध्या धाम में भव्य अलौकिक राम मंदिर में विराजमान प्रभु श्रीराम लला के चरणों में नमन एवं उनकी भक्ति में सभी राम भक्त हमेशा से समर्पित रहे है और आज उन्ही राम भक्तो की जीत एवं संकल्प पूर्ण की खुशी का समय है जो संकल्प राम भक्तो ने लिया था की राम लला हम आयेंगे मंदिर वही बनाएंगे आज पूर्ण हुआ,भव्य मंदिर उसी भूमि पे बना सनातन की जीत हुई और 500 वर्षो का संघर्ष सफल हुआ उन्होंने कहा कि यह राम युग है जहा हम सब नए भारत संपन्न भारत की बात कर सकते है मोदी जी के शीर्ष नेतत्व में यह सब हम अपनी आंखों से होते हुए देख रहे है जो हम सबके लिए भी अद्भुत है अविस्मरणीय है। सुख शांति संस्कृति संप्रभुता अखंडता सनातन भारत का वैश्विक स्तर पर अमूल्य प्रतीक है राम मंदिर जो हम सभी राम भक्तो के लिए सबसे बड़ी आस्था का विषय है और हमेशा रहेगा। अब जल्दी ही मथुरा और काशी में भी सनातन धर्म की ही जीत होगी।

संवाददाता आकाश चौधरी

error: Content is protected !!